जनवरी में 8.96 लाख रोजगार बने, 17 महीने में 76.48 लाख लोगों को मिली नौकरी: EPFO

संगठित क्षेत्र में शुद्ध रूप से जनवरी महीने में कुल 8.96 लाख लोगों को रोजगार मिला। यह 17 महीने का उच्च स्तर है। ईपीएफओ के कंपनियों में कर्मचारियों की संख्या और उन्हें दिये जाने वाले वेतन (पेरोल) के आंकड़े से यह पता चला है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अप्रैल, 2018 से ‘पेरोल’ आंकड़े जारी कर रहा है। इसमें सितंबर 2017 के आंकड़े को लिया गया था।

जनवरी महीने में जो नये रोजगार सृजित हुए वह एक साल पहले इसी महीने की तुलना में 131 प्रतिशत अधिक है। पिछले साल जनवरी में ईपीएफओ अंशधारकों की संख्या 3.87 लाख बढ़ी थी। सितंबर, 2017 में शुद्ध रूप से 2,75,609 रोजगार सृजित हुए थे। आंकड़ों के अनुसार ईपीएफओ की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से सितंबर, 2017 से जनवरी 2019 के दौरान करीब 76.48 लाख नये अंशधारक जुड़े। यह बताता है कि पिछले 17 महीनों में संगठित क्षेत्र में कई रोजगार सृजित हुए।

ईपीएफओ से जुड़े वाले अंशधारकों की संख्या जनवरी 2019 में 8,96,516 रही जो सितंबर, 2017 के बाद सर्वाधिक है। इस बीच, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने दिसंबर, 2018 के आंकड़ों को संशोधित किया है। संशोधित आंकड़े के अनुसार पिछले साल दिसंबर में 7.03 लाख रोजगार सृजित हुए जबकि पूर्व में इसके 7.16 लाख रोजगार सृजित होने की बात कही गयी थी।

ईपीएफओ ने सितंबर, 2017 से दिसंबर, 2018 की अवधि के दौरान संचयी आधार पर रोजगार के आंकड़े को भी संशोधित किया है। संशोधित आंकड़े के अनुसार इस दौरान 67.52 लाख रोजगार सृजित हुए जबकि पूर्व में इसके 72.32 लाख रहने का अनुमान जताया गया था। इस साल जनवरी के दौरान 2.44 लाख रोजगार 22 से 25 साल के आयु वर्ग में सृजित हुए। उसके बाद 18 से 21 साल के आयु वर्ग में 2.24 लाख रोजगार सृजित हुए

ईपीएफओ ने यह भी कहा कि आंकड़े अस्थायी हैं क्योंकि कर्मचारियों का रिकॉर्ड अद्यतन करना एक सतत प्रक्रिया है और जरूरत के मुताबिक उसे आने वाले महीनों में संशोधन किया जाएगा। इस अनुमान में वे कर्मचारी भी शामिल हो सकते हैं जिनका योगदान पूरे वर्ष जारी नहीं रहे। अंशधारकों का आंकड़ा आधार से जुड़ा है।

यूपी : पॉलीटेक्निक की प्रवेश परीक्षा अब 28 मई को

प्रदेश की राजकीय, अनुदानित एवं निजी क्षेत्र की पॉलीटेक्निक संस्थाओं में सत्र 2019-20 में प्रवेश के लिए होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा लोकसभा चुनाव के कारण अब 28 मई को होगी। आनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि भी 31 मार्च तक बढ़ा दी गई है। 

संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि प्रदेश के सभी 75 जिलों में यह प्रवेश परीक्षा पहले 28 अप्रैल को होने वाली थी। इस परीक्षा में शामिल होने के लिए आनलाइन आवेदन की प्रक्रिया चल रही है, जिसकी अंतिम तिथि 14 मार्च निर्धारित की गई थी। छात्रहित में आनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 14 मार्च से बढ़ाकर 31 मार्च 2019 कर दी गई है। इससे प्रवेश परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थियों को अधिक अवसर प्राप्त हो सकेगा। 

उन्होंने बताया कि जिन छात्र-छात्राओं ने पहले आवेदन किया था तथा उनके आवेदन में किसी सुधार की जरूरत है तो वे एक अप्रैल से चार अप्रैल 2019 तक अपने लॉगिन के माध्यम से परिषद की वेबसाइट पर जाकर सुधार कर सकते हैं।

UPPCS : पहले ही लेटलतीफी में फंसी असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती और अब चुनाव

UPPCS : पहले ही लेटलतीफी में फंसी असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती और अब चुनाव

छूटे सीजनल संग्रह अमीनो, अनुसेवकों के नियमित होने का रास्ता साफ, अपर मुख्य सचिव ने दी हरी झंडी

500 कर्मियों की नौकरी होगी पक्की: छूटे सीजनल संग्रह अमीनो, अनुसेवकों के नियमित होने का रास्ता साफ, अपर मुख्य सचिव ने दी हरी झंडी

समीक्षा अधिकारी, अपर निजी सचिव भर्ती परीक्षा की तैयारी के फरमान

समीक्षा अधिकारी, अपर निजी सचिव भर्ती परीक्षा की तैयारी के फरमान

समीक्षा अधिकारी, अपर निजी सचिव भर्ती परीक्षा की तैयारी के फरमान
समीक्षा अधिकारी, अपर निजी सचिव भर्ती परीक्षा की तैयारी के फरमान

चुनाव बाद शुरू होगी वाणिज्य कर विभाग में अमीनों की भर्ती, 20 जिलों में नियमित व 55 जिलों में होनी है सीजनल अमीनो की भर्ती

चुनाव बाद शुरू होगी वाणिज्य कर विभाग में अमीनों की भर्ती,

चुनाव बाद शुरू होगी वाणिज्य कर विभाग में अमीनों की भर्ती, 20 जिलों में नियमित व 55 जिलों में होनी है सीजनल अमीनो की भर्ती
चुनाव बाद शुरू होगी वाणिज्य कर विभाग में अमीनों की भर्ती, 20 जिलों में नियमित व 55 जिलों में होनी है सीजनल अमीनो की भर्ती

Prayagraj : अपर निजी सचिव के आधा दर्जन चयनित के दस्तावेज तलब कंप्यूटर ज्ञान से संबंधित अनिवार्य अहर्ता के प्रमाण पत्र की भी जांच होगी

फर्जीवाड़े में APS-2010 के 6 अभ्यर्थियों का चयन हो चुका है निरस्त