उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग लखनऊ द्वारा चकबंदी लेखपाल की नियुक्ति के संबंध में जारी विज्ञापन संख्या-03-परीक्षा/2019 को निरस्त किए जाने के संबंध में जारी हुआ आदेश

*लखनऊ – आईबीए बड़ी अपडेट*

*शासन ने भर्ती प्रक्रिया को निरस्त किया.*

*चकबन्दी लेखपाल के 1364 सीधी भर्ती के पद।*

भर्ती प्रक्रिया को तत्काल प्रभाव से निरस्त किया।

1364 पद से अनारक्षित श्रेणी के लिए विज्ञापन था।

1002 अनुसूचित जाति के 362 पदों का विज्ञापन निकाला।

जबकि अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए विज्ञापन नहीं था।

अनुसूचित जनजाति श्रेणी के पद का विज्ञापन नहीं था।

विज्ञापन सही ढंग से न होने पर किया निरस्त।

शासन ने भर्ती प्रक्रिया के जांच के आदेश दिए।

*तत्काल प्रभाव से भर्ती प्रक्रिया निरस्त की गई*

UPSSSC Recruitment 2019: चकबंदी अधिकारी और अन्य के 672 पदों पर निकली वैकेंसी, जानिए डिटेल

UPSSSC ने विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है. इनमें सहायक चकबंदी अधिकारी (UPSSSC Chakbandi Adhikari), अपर जिला सूचना अधिकारी, अधिशासी अधिकारी व राजस्व निरीक्षक और अन्य पद शामिल हैं.

UPSSSC Recruitment 2019: उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UPSSSC) ने विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है. भर्ती कुल 672 पदों पर होनी है. इनमें सहायक चकबंदी अधिकारी (UPSSSC Chakbandi Adhikari), अपर जिला सूचना अधिकारी, अधिशासी अधिकारी व राजस्व निरीक्षक (UPSSSC Revenue Inspector), खाद्य एवं रसद विभाग में पूर्ति निरीक्षक और विपणन निरीक्षक के पद शामिल हैं. इन पदों पर आवेदन की प्रक्रिया 30 जनवरी 2019 से शुरू होगी. आवेदन करने की आखिरी तारीख 19 फरवरी 2-2019 निर्धारित की गई है. जबकि आवेदन में संशोधन की अंतिम तिथि 26 फरवरी 2019 है. इन पदों पर ग्रेजुएट्स आवेदन कर सकते हैं, अलग-अलग पदों पर अलग-अलग योग्यता निर्धारित की गई है. अगर आप इन पदों पर आवेदन करना चाहते हैं, तो नीचे दी गई जानकारी को ध्यान से पढ़ने के बाद ही आवेदन करें.

महत्वपूर्ण तारीखें
ऑनलाइन आवेदन की शुरुआत: 30 जनवरी, 2019
ऑनलाइन आवेदन की आखिरी तारीख: 19 फरवरी, 2019
संशोधन की आखिरी तारीख: 26 फरवरी, 2019

FOR OFFICIAL NOTIFICATION CLICK HERE 👇

👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇

वैकेंसी के संबंध में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिककरें.

ग्राम पंचायत अधिकारी भर्ती में अनियमितताओं को लेकर याचिका खारिज

ग्राम पंचायत अधिकारी भर्ती में अनियमितताओं को लेकर याचिका खारिज

ग्राम विकास अधिकारी परीक्षा का पर्चा लीक कराने और सालवर गैंग का सदस्य होने के आरोपी प्रधानाध्यापक की गिरफ्तारी पर रोक से इनकार

ग्राम विकास अधिकारी परीक्षा का पर्चा लीक कराने और सालवर गैंग का सदस्य होने के आरोपी प्रधानाध्यापक की गिरफ्तारी पर रोक से इनकार

ग्राम विकास अधिकारी परीक्षा का पर्चा लीक कराने और सालवर गैंग का सदस्य होने के आरोपी प्रधानाध्यापक की गिरफ्तारी पर रोक से इनकार
ग्राम विकास अधिकारी परीक्षा का पर्चा लीक कराने और सालवर गैंग का सदस्य होने के आरोपी प्रधानाध्यापक की गिरफ्तारी पर रोक से इनकार

प्रधानाध्यापक भी नहीं लिख सके वीडीओ परीक्षा के विशेषज्ञ, प्रश्न पत्र में शाब्दिक अशुद्धियों की भरमार

प्रयागराज : ग्राम विकास अधिकारी यानी वीडीओ जैसे पद के लिए पिछले दिनों हुई परीक्षा का जिन विशेषज्ञों ने प्रश्नपत्र बनाया उन्होंने हंिदूी व्याकरण का कबाड़ा ही कर दिया। प्रश्नपत्र में विशेषज्ञ न तो प्रधानाध्यापक लिख सके और न ही उन्हें ‘सेना’ व ‘सेनाओं’ में अंतर पता है। श्रीरामचरितमानस को भी रामचरित मानस लिखा। भाषाविद् समीक्षक डॉ पृथ्वीनाथ पांडेय ने वीडीओ परीक्षा के प्रश्नपत्र में ढेरों गलतियां उजागर की हैं।

लिखित परीक्षा 22 व 23 दिसंबर को हुई थी, जिसमें व्याकरण की गलतियां सभी सेट कोड और परीक्षा पुस्तक सीरीज में रही। अभी तक व्याकरण में तीन लिंग पुल्लिंग, स्त्रीलिंग व नपुंसकलिंग की ही व्यवस्था है लेकिन, विशेषज्ञों ने प्रश्नपत्र में ‘स्नीलिंग’ लिखा। जिसे सेट कोड एबी और परीक्षा पुस्तिका सीरीज ए-एफ के प्रश्न संख्या 34 व 35 में देखा जा सकता है। व्याकरण में ‘सेना’ का बहुवचन ‘सेना’ ही है लेकिन, प्रश्नपत्र में सेना का बहुवचन ‘सेनाएं’ तथा क्रिया को एकवचन ‘बढी’ दिखाया है। जबकि यहां ‘बढ़ी’ होगा और बहुवचन में ‘बढ़ीं’। प्रश्न संख्या आठ में एक वाक्य में पांच अशुद्धियां हैं। इसमें युद्ध क्षेत्र लिखा गया है जबकि ‘युद्ध-क्षेत्र’ होगा, जो कि षष्ठी तत्पुरुष सामासिक चिह्न् से अनुशासित होगा। प्रश्न 10 में ‘करुं’ की जगह ‘करूं’, 11 में ‘घोडा’ की जगह ‘घोड़ा’, 12 में ‘कपडा’ की जगह ‘कपड़ा’ होगा। बताइए’ के बाद पूर्णविराम- चिह्न् की जगह ‘विवरण-चिह्न्’ (–) होगा। 14 में विकल्प (डी) ‘लोकिक’ की जगह ‘लौकिक’, 15 के विकल्प (ए) में ‘दोनो’ की जगह ‘दोनों’ होगा। प्रश्न 15 में ‘उपसर्ग वह शब्दांश है’, के बाद अल्पविराम-चिह्न् (,) लगेगा, फिर ‘जो’ का प्रयोग होगा। इस प्रश्न के सभी विकल्पों में ‘जुडता’ के स्थान पर ‘जुड़ता’ होगा। 20 में कर्तव्य-अकर्तव्य की जगह कर्त्तव्य-अकर्त्तव्य होगा।

सीरीज एफ-ए, पुस्तिका पी-छह का पहला प्रश्न गद्यांश का है, जिसमें भद्र जनों, श्रेष्ठ जनों, प्रिय जनों तथा शिक्षित जनों का प्रयोग गलत है। इसमें जनों के स्थान पर ‘जन’ होना चाहिए, क्योंकि ‘जन’ स्वयं में बहुवचन का शब्द है। जन से पहले के शब्द जन से जुड़े रहेंगे। इसी में प्रफुल्लित के स्थान पर प्रफुल्ल, जगत के स्थान पर जगत्, प्रश्न 10 में यौग रूढ़ के स्थान पर योगरुढ़ होगा। प्रश्नों में निम्न शब्द का प्रयोग है जबकि निम्नलिखित होगा। परीक्षा पुस्तिका पी-दो और सीरीज बी ए के प्रश्न संख्या एक के विकल्प (सी) में प्रधानाध्यपक लिखा गया है जबकि प्रधानाध्यापक होगा। प्रश्न संख्या दो में ‘जिनका उच्चारण स्वतन्त्रता से होता है’ की जगह ‘जिनका उच्चारण बिना किसी बाधा के होता है’ प्रयोग होगा। प्रश्न 44 में पूछा गया है कि सूरदास जी कौन से काल के संत कवि हैं? यहां ‘कौन से काल के’ के स्थान पर ‘किस काल के’ होगा। एक प्रश्न में ‘रामचरित मानस’ लिखा गया है जबकि इसकी जगह श्रीरामचरितमानस होगा। घर पर की जगह घर में होगा।

 

Source – dainik jagran prayagraj

8 से 12 लाख में वीडियो परीक्षा पास कराने वाले 7 गिरफ्तार, एसटीएफ ने चेक लेने पहुंचे कानपुर के दो भाइयों को दबोचा, मुख्य आरोपी फतेहपुर का शिक्षामित्र बालकृष्ण फरार

 8 से 12 लाख में वीडियो परीक्षा पास कराने वाले 7 गिरफ्तार, एसटीएफ ने चेक लेने पहुंचे कानपुर के दो भाइयों को दबोचा, मुख्य आरोपी फतेहपुर का शिक्षामित्र बालकृष्ण फरार
8 से 12 लाख में वीडियो परीक्षा पास कराने वाले 7 गिरफ्तार, एसटीएफ ने चेक लेने पहुंचे कानपुर के दो भाइयों को दबोचा, मुख्य आरोपी फतेहपुर का शिक्षामित्र बालकृष्ण फरार